Female Genital Mutilation In India,Masooma Ranalvi wrote to pm modi

Female Genital Mutilation In India:मासूमा रानाल्वी ने पीएम मोदी को,खतना जैसी कुप्रथा का अंत करने की अपील की।

In women’s circumcision, their genitalia is surgically operated in a non-medical way. Not only in India, many countries of the world are circumcised. In view of its seriousness, the United Nations has declared Zero Tolerance International Day on February 6 against women’s circumcision.

After circumcision, there are many serious diseases like women’s infertility, vaginal infections. Due to excessive bleeding in circumcision many times the child’s death is also done. Many times, children go into coma if they can not endure the pain that arises during circumcision.

तीन तलाक की कुप्रथा खत्म होने जब देश की मुस्लिम महिलाएं उत्सव मना रही थी उसी दौरान एक महिला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खत लिखकर उनका ध्यान एक और कुप्रथा की ओर ले जाना चाहा। मासूमा रानाल्वी ने पीएम मोदी को लिखे अपने खत में खतना जैसी कुप्रथा का अंत करने की अपील की।

Women’s circumcisionFemale Genital Mutilation (FGM) :ये है मासूमा के खत का मजमून

मासूमा रानाल्वी ने प्रधानमंत्री के नाम लिखे अपने खत में लिखा है, स्वतंत्रता दिवस के दिन आपने मुस्लिम महिलाओं के दुखों और कष्टों का जिक्र किया। आपने तीन तलाक को एंटी वूमन कहा तो सुनकर अच्छा लगा, आजादी के बाद भी हम औरतों को आजादी नहीं मिली।…तीन तलाक अन्याय है लेकिन इस देश में सिर्फ यही समस्या नहीं है।
मैं आपको Female Genital Mutilation (FGM) के बारे में बताना चाहती हूं। बोहरा समुदाय में सालों से खतना या खफ्ज प्रथा का पालन किया जाता है। बोहरा, शिया मुस्लिम होते हैं, जिनकी संख्या लगभग बीस लाख है।
मैं आपको बताती हूं कि आखिर मेरे समुदाय में छोटी बच्चियों के साथ क्या होता है। जैसे ही कोई बच्ची सात साल की होती है, उसे दाई या एक लोकल डॉक्टर के पास ले जाया जाता है। यहां बेदर्दी से बच्ची का Clitoris काट दिया जाता है। इस प्रथा का दर्द ताउम्र के लिए उस बच्ची के पास रह जाता है। इस प्रथा का एकमात्र उद्देश्य है कि बच्ची या महिला का Sexual Desires को दबा दिया जाए। यह महिलाओं और लड़कियों के मानवाधिकारों का हनन है।

What Is Female Genital Mutilation (FGM) or women’s circumcision :क्या होता है खतना

महिलाओं के खतना में एक गैर मेडिकल तरीके से उनके जननांगों कों सर्जिकल रुप से ऑपरेट किया जाता है। भारत ही नहीं दुनिया के कई मुल्कों में महिलाओं का खतना किया जाता है। इसकी गंभीरता को देखते हुए संयुक्त राष्ट्र ने 6 फरवरी को महिलाओं के खतना के खिलाफ जीरो टॉलरेंस का अंतररराष्ट्रीय दिवस घोषित किया है।

Female Genital Mutilation (FGM) in India:20 करोड़ महिलाओं का हुआ खतना

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया में कम से कम 20 करोड़ ऐसी महिलाएं हैं जिनका किसी न किसी रुप से खतना किया जा चुका है।

Side effects of mutilation:Female Genital Mutilation (FGM) in India:खतरनाक है खतना

खतने के बाद महिलाओं के बांझपन, योनी संक्रमण जैसी कई गंभीर बीमारियां हो जाती है। खतने में बहुत ज्यादा खून बहने की वजह से कई बार बच्चे की मौत भी हो जाती है। खतने के दौरान उठने वाला दर्द सहन नहीं कर पाने कई बार तो बच्चे कोमा में चले जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *