Jhunjhunu News:Martyred soldier wife fasts on Karva Chauth in jhunjhunu

Martyred soldier wife fasts on Karva Chauth in jhunjhunu:करवा चौथ का व्रत रखती हैं ये वीरांगनाएं

झुंझुनूं जिले में अनेक ऐसी वीरांगनाएं हैं, जो कहती हैं कि उनके पति मरे नहीं बल्कि अमर हुए हैं। वे भी हर साल की तरह 2017 का करवा चौथ भी मनाएंगी।

Karva Chouth:Importance Of Karva Chouth

मलसीसर. इस समय देशभर की महिलाएं करवा चौथ की तैयारियों में जुटी हैं। रविवार को पति की लम्बी उम्र की कामना के लिए करवा चौथ का व्रत रखेंगी, लेकिन अगर आपको सुनने को मिले कि पति के इस दुनिया को अलविदा कहे जाने के बाद भी पत्नी हर साल करवा चौथ का व्रत रखती है तो ताजुब्ब होगा ना। मगर यहां ये बात ताजुब्ब की नहीं बल्कि गर्व की है।
गर्व इसलिए कि वीरांगनाएं अपने शहीद पति के लिए करवा चौथ पर्व मनाती हैं। राजस्थान के झुंझुनूं जिले में अनेक ऐसी वीरांगनाएं हैं, जो कहती हैं कि उनके पति मरे नहीं बल्कि अमर हुए हैं। इसलिए वे भी हर साल करवा चौथ का व्रत करती हैं। 2017 का करवा चौथ भी मनाएंगी।

Shekhawati News:ये वीरांगनाएं रखती हैं करवा चौथ का व्रत

झुंझुनूं जिले के मलसीसर उपखण्ड क्षेत्र के गांव खनारा का बास के शहीद शिशुपाल सिंह गढ़वाल की वीरांगना कमला देवी, झटावा खुर्द के जगवीर सिंह तेतरवाल की वीरांगना किरण देवी एवं भंवरलाल मीणा की वीरांगन संतोष देवी पति की शहादत के बाद भी करवा चौथ के व्रत का सिलसिला जारी रखे हुए हैं।

Jhunjhunu News:कौन कब हुआ शहीद

कमला देवी के पति शिशुपाल सिंह गढ़वाल 12 जाट रेजिमेन्ट में थे। वर्ष 2000 में जैसलमेर में चल रहे ऑपरेशन पराक्रम में वे शहीद हो गए। झटावा खुर्द के भंवर लाल मीणा राजौरी जम्मु कश्मीर में दुश्मनों से लोहा लेते हुए 27 जुलाई 2000 को विरगति को प्राप्त हो गए थे। इसी तरह झटावा खुर्द के ही जगवीर सिंह तेतरवाल देश की रक्षा करते शहीद हो हुए।

Jhunjhunu News:..और यहां करवा चौथ को पति आएगा तिरंगे में लिपटकर

अरुणाचल प्रदेश में वायुसेना का हेलीकॉप्टर क्रेश होने से राजस्थान के झुंझुनूं के जिले सूरजगढ़ के उपखण्ड के गांव कासनी निवासी सतीश खांडा शहीद हो गया। शहीद की वर्ष 2013 को जयपुर की किरण से शादी हुई थी। किरण सतीश की लम्बी उम्र की कामना के लिए करवा चौथ का व्रत रखने की तैयारियों में जुटी थी। इस बीच वह शहीद हो गया। शहीद सतीश खांडा की पार्थिव देह करवा चौथ के दिन रविवार को गांव कासनी पहुंच सकती है। ऐसे में वर्ष 2017 का करवा चौथ का व्रत किरण को जिंदगीभर नहीं भूल सकने वाला गम दे गया।

Karva Chouth:पति को क्यों देखते हैं छलनी से, क्यों करते हैं चांद की पूजा?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *