lunar eclipse on raksha bandhan 2017 auspicious time to tie rakhi

रक्षाबंधन पर चंद्रग्रहण और भद्रा का साया, राखी बांधने के लिए 2 घंटे 50 मिनट का ही रहेगा मुहूर्त, Lunar eclipse and Bhadra’s shadow on Rakshabandan, for two hours and 50 minutes, to keep Rakhi will be Muhurta

श्रावण शुक्ल पूर्णिमा यानी 7 अगस्त सोमवार को रक्षाबंधन पर इस बार खंडग्रास चंद्रग्रहण का योग बन रहा है। रक्षाबंधन पर चंद्रग्रहण और भद्रा का योग बनने के कारण रक्षा सूत्र बांधने का 2 घंटे 50 मिनट का ही मुहूर्त रहेगा। इस दौरान शहर में दान-पुण्य का दौर चलेगा।
9 साल बाद बनने जा रहा ऐसा योग
केवल श्रावण शुक्ल पूर्णिमा पर आने वाले रक्षा बंधन के त्योहार पर इस बार भद्रा चंद्र ग्रहण का साया रहेगा। इसके चलते बहनों को अपने भाइयों की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधने का बहुत कम समय मिल पाएगा।

सुबह 11.05 से दोपहर 1.55 तक मुहूर्त
इस दिन बहनें अपने भाइयों को सुबह 11.05 से दोपहर 1.55 तक ही बांध सकेंगी। ज्योतिषाचार्य अक्षय शास्त्री के अनुसार रक्षाबंधन पर सूर्योदय से दोपहर 11.05 बजे तक भद्रा रहेगी और दोपहर 1.55 बजे से रात 12.48 बजे तक चंद्र ग्रहण का सूतक रहेगा। इसके चलते रक्षाबंधन पर 11.05 बजे से 1.55 बजे तक ही राखी बांधी जा सकेगी। राखी पर इससे पहले 2008 में भी ऐसा संयोग बना था।

सूतक में नहीं बदलेगा झांकियों का समय
रक्षाबंधन के दिन सूतक के दौरान जयपुर वासियों के आराध्य गोविन्ददेवजी की झांकियों में कोई बदलाव नहीं किया गया है। ग्रहण पर्वकाल में ठाकुरजी के दर्शन पट खुले रहेंगे और हरिनाम कीर्तन होगा। पर्वकाल में ठाकुरजी के ग्रहणकाल विशेष झांकी दर्शन रात 10.45 से मध्यरात्रि 12.48 बजे तक होंगे। मंदिर के प्रवक्ता मानस गोस्वामी ने बताया कि इस दिन ठाकुरजी को राखी धारण कराई जाएगी। राखी धारण दर्शन सुबह 11.15 बजे होंगे। ठाकुरजी को राखी बांधने वाले भक्त 6 अगस्त को राखी अन्य अर्पण सामग्री मंदिर कार्यालय में जमा करा सकते हैं।

 

One thought on “lunar eclipse on raksha bandhan 2017 auspicious time to tie rakhi

  • July 29, 2017 at 7:10 pm
    Permalink

    Way cool! Some very valid points! I appreciate you
    penning this write-up and the rest of the website is extremely good.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *