marwar festival 2017 :मारवाड़ समारोह 2017

Marwar festival 2017:आन, बान, शान का प्रतीक साफा बांध इठलाए जोधपुराइट्स

marwar festival 2017 ,Marwar Turban Tying festival 2017,jodhpur news,jodhpur news hindi,rajasthan folk music,Marwar Festival,Turban tying competition,turban tying,Rajasthan News,Rajasthan Culture,मारवाड़ महोत्सव

Marwar festival 2017 मारवाड़ समारोह 2017:आन, बान, शान का प्रती…

Marwar festival 2017 मारवाड़ समारोह 2017:आन, बान, शान का प्रतीक साफा बांध इठलाए जोधपुराइट्स

Posted by Rajasthan News on Thursday, October 5, 2017

The two-day Marwar Festival started on Wednesday in front of Jaipol of Mehrangarh fort at 6 in the morning with the first ray of the Sun and the Sun worship. The Heritage Walk through the Mehrangarh Fort, through the old city, through the junior Dhanmondi, reached the steeple from the belghar to reach Shobhayatra Ummed National Stadium. Traditional dance dances were also organized at the Marwar Festival. People dressed in traditional costumes played with Dandy in the woods. During this time wherever the Rajasthani traditional Garba was organized, the eyes of the people were stagnant.

दो दिवसीय मारवाड़ फेस्टिवल का बुधवार को मेहरानगढ़ दुर्ग की जयपोल के सामने सुबह 6 बजे सूर्य की पहली किरण व सूर्य आराधना के साथ आगाज हुआ।

Marwar festival 2017:मेहरानगढ़ दुर्ग के सामने सूर्य आराधना संग हुआ दो दिवसीय मारवाड़ महोत्सव का आगाज

 

मेहरानगढ़ दुर्ग से होकर हैरिटेज वॉक प्राचीन शहर के अंदर से होकर जूनी धानमंडी होकर घंटाघर पहुंची घंटाघर से शोभायात्रा उम्मेद राजकीय स्टेडियम पहुंची। मारवाड़ की शान और बान का प्रतीक साफा भी मारवाड़ समारोह में लोगों के बीच चर्चा का विषय बना रहा। पुरुषों के साथ जहां महिलाओं ने भी साफा पहना, वहीं कार्यक्रम में साफा प्रतियोगिता भी आयोजित की गई, जिसमें सबसे तेजी से साफा बांधने वालों को पुरस्कृत किया गया। मारवाड़ समारोह में पारंपरिक डांडिया नृत्य का भी आयोजन किया गया। पारंपरिक वेशभूषा पहने लोगों ने लकडिय़ों के संग खूब डांडिया खेले। इस दौरान जहां भी इस पारंपरिक गरबा का आयोजन हुआ लोगों की नजरें ठहर सी गईं।

Marwar festival 2017:स्टेडियम में हुईं मारवाड़ की पारम्परिक प्रतियोगिताएं

सुबह 8.30 बजे से 11 बजे तक उम्मेद राजकीय स्टेडियम में मूंछ प्रतियोगिता, रस्साकशी, साफ ा बांधने, मारवाड़श्री, मटका रेस, मेहंदी मांडणा व बैंड प्रतियोगिता हुईं।

Marwar Turban Tying festival 2017:गुलाब सागर पर दीपदान

शाम 6 बजे सूर्यास्त के बाद अंधेरा ढलने पर प्राचीन गुलाबसागर के तट पर दीपदान किया जाएगा। शाम 7 बजे घंटाघर में रंगारंग सांस्कृतिक संध्या के दौरान लोक कलाकार कार्यक्रम प्रस्तुत करेंगे।

Marwar festival 2017 मारवाड़ समारोह

Marwar Turban Tying festival 2017:आज साफा पहनने की अपील

जिला कलक्टर रविकुमार सुरपुर ने इस दिन मारवाड़ की संस्कृति व विरासत के रूप में सभी शहरवासियों से साफ ा पहनने की अपील की है। उन्होंने महिलाओं से भी ऐसी ही अपील की है। उस दिन परम्परागत कोई भी साफ ा चाहे पंचरंगा, मोठड़ा, बंधेज, लहरिया, चूंदड़ी, गजशाही, कोई भी गोल साफ ा भी बांध सकते हैं। जिला कलक्टर ने सभी विभागों, निगमों, बोर्डो के अधिकारियों व कर्मचारियों से आज मारवाड़ फेस्टिवल कार्यक्रमों में परम्परागत साफ ा पहन कर भागीदारी निभाने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि साफ ा बांधने से हम अपनी संस्कृति व विरासत को और नजदीक से महसूस करेंगे और यही इस अपील का उद्देश्य है। इसके तहत आज सुबह से ही कई लोग परंपरागत मारवाड़ी साफे में नजर आए।

Marwar Turban Tying festival 2017:ओसियां के धोरों में कल बिखरेगी स्वर लहरियां

5 अक्टूबर को सुबह 8 बजे से कल्चरल कारवां गायत्री मंदिर से रवाना होकर शिव मंदिर पहुंचेगा। दोपहर 3 बजे से शाम 6 बजे परम्परागत ग्रामीण खेलों का आयोजन और ऊंट दौड़ रेतीले धोरों पर ग्रामीण जीवन पर आधारित प्रदर्शनी आयोजित होगी। शाम 7 बजे से लोक कलाकार रेतीले धोरों पर रात्रि में स्वर लहरियां बिखेरेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *