National News: HC Asked Government To Mull Over Consequences If Passport Impounded During Travel

Passport New rules: विदेश यात्रा पर गए नागरिक पासपोर्ट जब्त होने पर क्या करेंगे, केंद्र से HC ने पूछा

दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र से उन हालात पर विचार करने को कहा है, जब किसी भारतीय का पासपोर्ट विदेश यात्रा के दौरान जब्त कर लिया जाए। एक्टिंग चीफ जस्टिस गीता मित्तल और जस्टिस सी. हरि शंकर की बेंच ने कहा, “इस बारे में सोचिए जब विदेश यात्रा के दौरान किसी सिटिजन का पासपोर्ट जब्त कर लिया जाए तो उस पर क्या गुजरती होगी। वह वापस नहीं आ पाएगा, क्योंकि वह इसके बगैर इमिग्रेशन प्रॉसेस से नहीं गुजर पाएगा।” Q&A में जानिए क्या है मामला…

High court on passport new rules : Q. SC ने केंद्र से ये सवाल क्यों किया?

A. कोर्ट ने केंद्र से ये सवाल 1995 के एक मामले की सुनवाई के दौरान किया। दरअसल, एक कपल ने अपनी पिटीशन में कहा था कि 1995 में विदेश यात्रा के दौरान हमारा पासपोर्ट जब्त कर लिया गया और बाद में उसे सीज कर दिया गया। उन्होंने अपनी नागरिकता को खारिज किए जाने की कार्रवाई को भी कोर्ट में चैलेंज किया था। कपल ने पिटीशन में कहा कि सारी कार्रवाई बिना किसी नोटिस दिए की गई। बता दें कि एक नगा एक्टिविस्ट और उनकी पत्नी ने कोर्ट में पिटीशन दायर की थी।

How to apply for passport: Q. पासपोर्ट जब्त होने पर पिटिशिनर्स ने क्या किया?

A.कपल ने कहा कि पासपोर्ट जब्त होने की वजह से वे किसी देश के नागरिक नहीं रह गए। उन्हें मजबूरन यूनाइटेड नेशन हाईकमिश्नर फॉर रिफ्यूजी (UNHCR) से रिफ्यूजी स्टेटस हासिल करना पड़ा। इसके बाद उन्होंने कनाडा की नागरिकता हासिल की।

New passport rules In India

Q. कोर्ट ने पिटीशन पर क्या कहा?

A. HC ने केंद्र से कहा, “जिस तरह इस नगा एक्टिविस्ट और उसकी पत्नी का केस हमारे सामने आया है, उसी तरह कई केस कोर्ट में आते रहते हैं। आप (सरकार) अपने कामकाज को देखे। इन लोगों ने अपने जीवन के 22 साल खो दिए हैं। कोर्ट ने एडिशनल सॉलिसीटर जनरल संजय जैन से कहा कि पासपोर्ट जब्त करने के लिए एक स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर होना चाहिए और अधिकारियों ऐसा एक्शन लिए जाने से प्रभावित होने वाले लोगों और नतीजों के बारे में संवेदनशीलता बरतनी चाहिए।

Q. केंद्र ने हाईकोर्ट से क्या कहा?

A.एएसजी जैन ने कहा कि हम केंद्र के आला अधिकारियों को कोर्ट की चिंता के बारे में बताएंगे। उन्होंने कहा, “इस मामले में कोर्ट अपने ऑर्डर में ये भी कह सकती है कि कपल इंडियन पासपोर्ट के लिए हकदार है और वे इंडियन सिटिजन रहेंगे। इसके बाद कपल कनाडा वापस जा सकता है और भारतीय पासपोर्ट के लिए अप्लाई कर सकता है, जो एप्लीकेशन देने के 12 हफ्तों के भीतर उन्हें मिल जाएगा। हालांकि इस कपल को अपनी कनाडाई नागरिकता को छोड़ना होगा।” एएसजी ने कपल के वकील से कहा कि कनाडा की नागरिकता छोड़ने की प्रॉसेस के बारे में वो बताएं ताकि इसे भी ऑर्डर में शामिल किया जा सके।

Q. इंडिया में अपनों से कैसे मिलता है कपल?

A. कोर्ट ने एएसजी से कहा कि वो इस बात का पता लगाएं कि क्या एक्टिविस्ट लिंगमा लुईथुई की पत्नी के खिलाफ कोई लुक आउट सर्कुलर तो जारी नहीं किया गया है। कपल के वकील ने इस बारे में आशंका जाहिर की थी। कपल की पिटीशन के मुताबिक अगर परिवार का कोई सदस्य बीमार पड़ जाता है तो उसे देखने के लिए टूरिस्ट वीजा पर भारत आना पड़ता है। उन्होंने सभी मौलिक अधिकार दिए जाने और उस देश की पर्मानेंट सिटिजनशिप देने की अपील की, जहां पर जन्म लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *