shekhawati janana hospital in sikar rajasthan News

Janana hospital in sikar:राजस्थान के इस अस्पताल में प्रेग्नेंट महिलाओं के साथ होता है ऐसा गंदा काम

Sikar News:जनाना अस्पताल सीकर में नियमों को ताक पर रख तीन महीने में 631 सीजेरियन प्रसव करा दिए गए। यह आंकड़ा विश्व स्वास्थ्य संगठन के तय मानकों से काफी ज्यादा है। अस्पताल प्रशासन का तर्क है कि रेफरल केसों के ज्यादा आने के कारण यहां सिजेरियन कराना मजबूरी हो गया है। यहां तीन महीने में सामान्य प्रसव 2412 हुए हैं। इससे साफ है कि अस्पताल में औसत 26 फीसदी से ज्यादा सिजेरियन हो रहे हैं। इसका खामियाजा प्रसूताओं ताउम्र भुगतना पड़ रहा है। खुद चिकित्सा विभाग के अधिकारियों का मानना है कि प्रसव में किसी तरह की रिस्क नहीं रहे, इसलिए सीजेरियन का सहारा लिया जाता है। दूसरी मजबूरी जनाना में लगातार बढ़ती प्रसूताओं की संख्या है। अस्पताल प्रशासन यदि विश्व स्वास्थ्य संगठन की गाइडलाइन के अनुसार स्टाफ लगाए तो संस्थागत प्रसव को बढ़ावा मिल सकता है।

Janana hospital in sikar:यह है कारण

सीकर जिला मुख्यालय स्थित जनाना अस्पताल में जिलेभर की प्रसूताएं आ रही हैं। जिले के ग्रामीण क्षेत्र में कहीं चिकित्सक तो कहीं संसाधन नहीं हंै। इसक कारण कई प्रसूताएं सीधे जनाना अस्पताल ही आती हैं। जबकि 40 से 50 फीसदी रैफरल प्रसूताएं भी यहां पहुंच रही हैं। ऐसे में जनाना में पिछले कई दिनों से क्षमता से अधिक प्रसूताएं पहुंच रही हैं। भर्ती मरीजों के हिसाब से स्टाफ कम है। इस कारण चिकित्सक व नर्सिंग स्टाफ सामान्य प्रसव के लिए प्रयास ही नहीं कर पा रहे हंै।

Janana hospital in sikar:50 फीसदी रैफर

जिला मुख्यालय पर सुविधाएं ज्यादा होने के कारण आम आदमी भी बजाए सीएचसी और पीएचसी पर जाने की बजाए प्रसूता को लेकर सीधे जनाना अस्पताल आ जाता है। इस कारण सिजेरियन का आंकड़ा बढ़ रहा है। अस्पताल में सुजानगढ़ व लाडनू सहित जिले भर से प्रसूताएं आती हैं। पचास फीसदी प्रसूताएं बिना रैफर हुए आती हैं। स्टाफ कम होने के बावजूद सिजेरियन करवाने पड़ते हैं।
– डा. बी.एल. राड़ ,प्रभारी, जनाना अस्पताल, सीकर

Janana hospital in sikar:स्वास्थ्य से खिलवाड़

सिरेजरियन प्रसव से महिलाओं की सेहत पर असर पड़ रहा है। ऑपरेशन से मां बनने वाली महिलाओं को सामान्य स्थिति में आने में छह माह से भी अधिक समय लग जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *