Shooting Academy In Sikar:Shekhawati soldier prepare soldiers for Indian Army

Shooting Academy In Sikar:शेखावाटी का एक ऐसा फौजी जो देश की सुरक्षा के लिए अपने खर्चे पर तैयार कर रहा सैनिक

देश की सरहद की रक्षा करने वाले एक सिपाही ने निशानेबाजी की अनूठी मुहिम छेड़ रखी है, जिसमें वह सैनिकों के अलावा जरूरतमंद बच्चों को इसलिए अपने खर्चे पर निशानेबाजी की तैयारी करा रहा है। ताकि वे लोग भी सुविधाओं के अभाव में पिछड़े नहीं और अच्छे खिलाड़ी या सैनिक बनकर अपने राष्ट्र भक्त होने का फर्ज अदा कर सकें।

Shooting Academy In Sikar:Film Story of Shekhawati International shooter JCO Om Prakash Chaudhary

एक बार निशानेबाजी की प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए इस सिपाही के पास भी पैसों का अभाव था और व्यवस्था जुटाने के लिए अपने जीते हुए सोने के मेडल और पिस्टल बेचने पड़ गए थे। जी हां, पढऩे में भले ही यह किसी फिल्म की स्टोरी लग रही हो, लेकिन यह रील लाइफ नहीं बल्कि रियल की कहानी है। आर्मी 18 बटालियन के जूनियर कमिश्नर ऑफिसर ओमप्रकाश चौधरी वर्तमान में महु (इंदौर) में कार्यरत हैं।

Defence Academy In Sikar

नरोदड़ा निवासी ओमप्रकाश खुद एक अंतराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी हैं। जो अब-तक निशानेबाजी में 64 राष्ट्रीय व 19 अंतराष्ट्रीय मेडल जीत चुके हैं। वे यहां सीकर में शूटिंग (निशानेबाजी) की एकेडमी चला रहे हैं। जिसमें उन बच्चों को निशानेबाजी का निशुल्क प्रशिक्षण दिया जाता है, जिनके पिता आर्मी में हैं या फिर कोई बच्चा बीपीएल होने के कारण निशानेबाजी सीखने से वंचित है। प्रशिक्षण ले रहे वीरेंद्र ङ्क्षसह, शिवप्रसाद, वियजपाल ख्यालिया, नीलम राठौड़ व मामराज का कहना है कि सरकारी स्तर पर तो उनको निशानेबाजी के लिए कभी कोई सुविधा हासिल नहीं हो पाई। लेकिन, यहां निशुल्क ट्रेनिंग लेकर निशानेबाजी में जिला व राज्य स्तर पर मेडल हासिल कर चुके हैं।

Shooting Academy In Sikar:2011 में समस्या से मिला सबक

ओमप्रकाश का चयन 2011 में ईरान में होने वाली एशियन चैंपियनशिप में हो गया था, लेकिन वहां पहुंचकर खेलने के लिए टिकट व होने वाले खर्चे के लिए पैसे नहीं थे। मजबूरी में सुविधा जुटाने की खातिर इनाम में मिले सोने के मेडल और पिस्टल को बेचना पड़ा। इसके बाद ईरान पहुंचे और वहां कांस्य पदक जीतकर देश का मान बढ़ाया। बस उसी दिन ठान लिया कि सुविधाओं के अभाव में किसी प्रतिभा को दबने नहीं दिया जाएगा।

Shooting Academy In Sikar shekhawati:05 बार के नेशनल चैम्पियन

बकौल ओमप्रकाश, जेब से पैसा खर्चे कर खिलाडिय़ों को प्रोत्साहित कर रहा हूं। क्योंकि मेरे पिता भी बिजली विभाग में लाइनमैन हैं। इसलिए सुविधा जुटाकर देने का दर्द अच्छी तरह जानता हूं। आर्मी की तरफ से पांच बार नेशनल चैंपियन रह चुका हूं। अब 2020 में जापान में होने वाले ओलंपिक में देश के लिए मेडल निकाल कर लाने का लक्ष्य है। जिसके लिए प्रतिदिन 10 घंटे निशानेबाजी व फिटनेस का अभ्यास कर रहा हूं।

One thought on “Shooting Academy In Sikar:Shekhawati soldier prepare soldiers for Indian Army

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *