Tarun Sagar Addresses To Public From Today

सीकर: आज से शहर में शुरू हो रहा है यह बड़ा कार्यक्रम, हजारों की संख्या में आएंगे लोग, This big program, starting in the city from today, will come in thousands of people

सीकर

From today, the citizens will receive regular bitter discourses of revolutionary Saint Tarun Sagar Maharaj.

आज से शहरवासियों को क्रांतिकारी संत तरुण सागर महाराज के नियमित कड़वे प्रवचन सुनने को मिलेंगे। रामलीला मैदान पर चलने वाली 15 दिवसीय कड़वे प्रवचनों की शृंखला से पहले राष्ट्रीय संत को भव्य शोभायात्रा के साथ जैन समाज पांडाल तक लेकर आएगा। यहां इंदौर के कलाकारों द्वारा निर्मित हंसरूपी स्वचालित आसन पर विराजमान होकर जैन मुनि प्रवचनों के माध्यम से शामिल होने वाले लोगों की दिशा व दशा बदलने का काम करेंगे। कार्यक्रम की शुरुआत सुबह 8.30 बजे भगवान महावीर के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलन कर की जाएगी। प्रवचन सुबह 10.30 बजे तक चलेंगे।

पूरा पांडाल होगा भक्तिमय

जर्मनी के एल्यूमिनियम से निर्मित वातानुकूलित पांडाल में करीब पांच हजार श्रद्धालुओं के एक साथ बैठने की व्यवस्था रहेगी। मुनि तरुण सागर चातुर्मास समिति के प्रवक्ता रोबिन पाटनी व सह प्रवक्ता विवेक पाटोदी ने बताया कि प्रवचन से पहले मांगलिक क्रियाएं होगी। जिनमें जैन मुनि का पाद प्रक्षालन, श्रीफल भेंट व आरती सहित विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम होंगे। प्रवचनों से पहले वर्धमान विद्या विहार की ओर से भक्ति रस पर आधारित नृृत्य प्रतियोगिता आयोजित होगी। इसके बाद हर दिन जैन समाज की संस्थाएं, मंडल व एक गु्रप भक्तिमय प्रस्तुति देगा। संगीतकार के तौर पर जबलपुर से संगीता एंड पार्टी को बुलाया गया है।

एक गणवेश में होंगे 200 स्वयंसेवक

मुख्य संयोजक सौरभ पाटनी व कोषाध्यक्ष गजेंद्र ठोलिया के अनुसार प्रवचनों के दौरान व्यवस्था के लिए तरुण क्रांतिमंच के 100 युवक व 100 युवतियां एक ही गणवेश में नजर आएंगे। महामंत्री विनोद सेठी के अनुसार प्रवचन शृंखला के दौरान जैन मुनि तरुण सागर की बहुचर्चित कृति कड़वे प्रवचन भाग संख्या-9 का विमोचन भी किया जाएगा। जिसके लिए मुख्यमंत्री को निमंत्रण दिया गया है। कड़वे प्रवचन सुनने के लिए सीकर सहित पूरे शेखावाटी, दिल्ली, हरियाणा, उत्तरप्रदेश, मध्य प्रदेश, कर्नाटक व महाराष्ट्र आदि राज्यों के श्रद्धालु भी शामिल होंगे।

 

हंसने मुस्कुराने का देंगे संदेश

स्वागतध्यक्ष अनुभव सेठी ने बताया कि कड़वे प्रवचनों के बाद प्रतिदिन शाम को 6.30 बजे जैन भवन में तनाव मुक्ति के लिए आनंद यात्रा कार्यक्रम हेागा। जिसमें हंसने-मुस्कुराने का संदेश देंगे। सह सहसंयोजक सुनिल बडज़ात्या के अनुसार चलित आसन पर प्रवचन होने के कारण जैन मुनि को पांडाल की आखरी पंक्ति में बैठा श्रोता भी आसानी से दर्शन कर सकेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *